Shayari & Story

Aurangzeb History in Hindi – औरंगजेब का शुरू से लेकर अंत तक का पूरा इतिहास

औरंगजेब का पूरा इतिहास हिंदी में पढ़ें – Aurangzeb History in Hindi

Aurangzeb History in Hindi: गजेब आलमगीर ( 1658 – 1707 ई ) मुहाउद्दीन मुहम्मद औरंगजेब का जन्म 1 नवम्बर , 1618 ई . में उज्जैन के निकट दोहद ‘ नामक स्थान पर मुमताजमहल के गर्भ से हुआ था । उसने कुरान , अरबी , फारसी . तक्री तथा हिन्दी की अच्छा जान प्राप्त कर लिया था । सैनिक शिक्षा में भी उसने योग्यता प्राप्त की थी । बंदेलखण्ड के राजा जुझार सिंह के विद्रोह का उसने दमन किया । 1636 ई . से 1644 ई . तक तथा 1652 ई से 1658 ई . तक औरंगजेब दक्षिण का राज्यपाल रहा । वह मुल्तान ( 1640 ई . ) तथा गुजरात ( 1645 इ . ) का गवर्नर भी रहा ।

Aurangzeb History

Aurangzeb History in Hindi

अपने भाइयों से निपटने के पश्चात् औरंगजेब ने 31 जुलाई , 1658 ई . को आगरा में पहली बार तथा जून , 1659 ई . में दूसरी बार दिल्ली में अपना औपचारिक राज्याभिषेक ‘ अकल मुजफ्फर आलमगीर ‘ की उपाधि के साथ करवाया । औरंगजेब ने सर्वप्रथम अनेक करों तथा ‘ राहदारी ‘ , ‘ पिण्डारी ‘ अर्थात् ‘ भूमिका ‘ तथा ‘ गृहकर आदि लगभग 18 करों को समाप्त कर दिया । खाफी खां ने इनमें से केवल 14 करों का उल्लेख किया है । उसने सिक्कों पर ‘ कलमे ‘ को लिखा जाना बंद करवा दिया , जिससे गैर – मुस्लिमों के छए जाने से यह अपवित्र न हो जाए । उसने फारस के ‘ नौरोज ‘ के त्योहार को मनाया जाना बंद करवाया तथा प्रजा के चरित्र की निगरानी करने हेतु ‘ मुहतसिब ‘ नियुक्त किए ।

पूर्वी सीमान्त का युद्ध ( 1661 – 1666 ई . ) 

दिसम्बर , 1661 ई . में बिहार के राज्यपाल दाऊद खां ने पोलमन जीता । मीर जुमला को बंगाल की राज्यपाल नियुक्त किया गया । उसने कूचबिहार व असम को जीता । वह चीन पर आक्रमण करना चाहता था , किन्तु मार्च 1663 ई . में उसकी मृत्य हो गई । शाइस्ता खां को दक्षिण से बंगाल का राज्यपाल नियुक्त किया गया । उसने पुर्तगाली और बर्गी समुद्री लुटेरों का दमन किया तथा जनतरी 1666 ई . में अराकान के राजा से चटगांव प्राप्त किया ।

उत्तर पश्चिमी सीमान्त नीति

इस प्रदेश के प्रति औरंगजेब ने राजनैतिक और । आर्थिक कारणों से उदार नीति अपनाई । आरम्भ में औरंगजेब ने यहां के विद्रोही मुस्लिम कबीलों को धन देकर शांत करने का असफल प्रयत्न किया । 1667 ई . में । गुसफजइयों ने अपने नेता भागू के नेतृत्व में विद्रोह किया जिसे दबा दिया गया । 1672 ई . में अकमल खा के नेतृत्व में अफरीदियों ने विद्रोह किया । खुशहाल खा । के नेतृत्व में ‘ खटुक ‘ भी अफरीदियों से आ मिले । 1674 ई . में मुगल सेनापति शुजात खा युद्ध में मारा गया । जुलाई , 1674 ई . में हसन अब्दाल ने शस्त्र , शक्ति व कूटनीति से परिस्थिति को काबू में कर लिया । अफगानिस्तान के मुगल राज्यपाल। अमीर खां ने भी इन लोगों के प्रति समझौते की नीति अपनाई । खुशहाल खां का अपने पुत्र के विश्वासघात के कारण बंदी बना लिया गया ।

औरंगजेब की धार्मिक नीति 

औरंगजेब ने अपने शासन काल में अनेक नेयमों आदि में परिवर्तन किए । उसने अपने शासनकाल की गणना के लिए शाही गौर – वर्ष समाप्त कर दिया । दरबार में गाना – बजाना तथा सार्वजनिक संगीत सम्मेलन को भी बंद करवा दिया । ‘ झरोखा दर्शन ‘ की परिपाटी तथा अपने शासनकाल के 12वें वर्ष में उसने सोना – चांदी व अन्य वस्तुओं से अपना तुलादान किया जाना बंद कर दिया । विजयदशमी तथा अन्य कई हिन्दू त्यौहार व उत्सवों पर रोक लगा दी तथा राज ज्योतिषयों तथा खगोल पंडितों को पदच्युत कर दिया । दरबार से चांदी के धूपदान व कलमदान हटा दिए गए ।

भांग पीने , वैश्यावृत्ति और जुआ खेलने पर प्रतिबंध लगा दिया । उसने तत्कालीन वेश – भूषा पर भी प्रतिबंध लगाने का प्रयास किया । दाढी तथा पायजामों की लंबाई कानूनन निर्धारित की गई । जरी के कपड़े पहनने मना थे । संतों आदि की कब्रों पर दीपक जलाने बंद करवा दिए गए । 1669 ई . में औरंगजेब ने । ‘ मुहर्रम ‘ मनाना बंद करवा दिया । हिन्दुओं की उच्च पदों पर नियुक्ति नहीं की जाती थी ।

महत्वपूर्ण तथ्य 

  • अफगान सर्वप्रथम जहांगीर के काल में ही मुगलों के मित्र हुए । उन्हें भी मनसबदार बनाया जाने लगा । इसी के काल में भारतीय मुसलमान , जिन्हें शेखजादा कहा जाता था , को भी मनसबदार बनाया जाने लगा ।
  • जहांगीर ने हॉकिन्स को 400 का मनसब दिया था ।
  • जहांगीर ने ही सर्वप्रथम मराठों के महत्व को समझा तथा उन्हें मुगल अमीर वर्ग में शामिल किया ।
  • मुगलों की दक्षिण विजय में सबसे बड़ी बाधा अहमदनगर के योग्य वजीर मलिक अम्बर की उपस्थिति थी।
  • नूरजहां ने एक ‘ जुन्ता गुट ‘ बनाया था , जिसमें उसका पिता एत्माद्दौला , माता अस्मत बेगम , भाई आसफ खां तथा शाहजादा खुर्रम शामिल थे ।
  • नूरजहां जहांगीर के साथ झरोखा दर्शन देती थीं , सिक्कों पर बादशाह के साथ उसका भी नाम अंकित होता था और शाही आदेशों पर बादशाह के साथ ।
  • उसका भी हस्ताक्षर होता था ।  नरजहां की मां अस्मत बेगम ने इत्र बनाने की विधि का आविष्कार किया ।
  • नरजहां ने अपना अंतिम जीवन 2 लाख रुपये प्रतिवर्ष की पेंशनभोगी बनकर लाहौर में बिताया ।
  • 1645 ई . में उसकी मृत्यु हो गई ।
  • जहांगीर के काल में 1622 ई . में कार को फारस के शाह ने मगलों से छीन लिया था ।

ऐसे ही अगले पढ़ते रहो

औरंगजेब ने हिन्दू मंदिरों को नष्ट करने की आज्ञा जारी की । अत : 1665 ई . में गुजरात में , 1666 ई . में मथुरा के केशवदेव मंदिर का ‘ कटघरा ‘ ( दारा | शिकोह द्वारा निर्मित ) , 1669 ई . में उड़ीसा , मुल्तान , सिंध , बनारस आदि में मंदिरों को तुड़वाया । उदयपुर में लगभग 235 मंदिर तथा अम्बेर ( जयपुर ) में लगभग 66 मंदिर तोड़े गए । हरिद्वार तथा अयोध्या में भी अनेक मंदिर तोड़े गए । हिन्दुओं के विरुद्ध अनेक दंड – विधेयक लागू किए गए ।

अकबर द्वारा हटाया गया तीर्थयात्रा कर पुनः लगाया गया तथा 1679 ई . में जजिया फिर से हिन्दुओं पर थोप दिया गया । 1665 ई . में हिन्दुओं के ‘ होली के त्यौहार पर प्रतिबंध लगाया गया । इसी वर्ष मुसलमानों के लिए बंदरगाहों पर , हिन्दुओं से आधा कर लगाया गया । 1694 ई . में एक आज्ञानुसार मराठों और राजपूतों को छोड़ कर अन्य हिन्दुओं के लिए ईरानी घोड़ा , हाथी अथवा पालकी की सवारी पर प्रतिबंध लगा दिया गया ।

1702 ई . में हिन्दुओं को अंगूठियों पर हिन्दू देवी – देवताओं के नाम खुदवाने की मनाही । की गई । 1703 ई . में हिन्दुओं द्वारा अहमदाबाद में साबरमती के तट पर मुर्दा की । अन्त्येष्टि पर प्रतिबंध लगाया गया । हिन्दुओं को मुस्लिमों जैसी वेश – भूषा धारण करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया ।

1. औरंगजेब के प्रति विद्रोह

1 . अफगान विद्रोह ( 1667 )

उत्तर पश्चिम के अफगान युसूफजई ने विद्रोह किया । भागू इसका नेता था तथा ‘ खुशहाल खां से नामक कवि प्रेरणादायक । आगे अकमल खां भी इससे जुड़ गया । 1675 ई . इसे मुनीम खां के सहयोग से दबाया जा सका ।

2 . जाट विद्रोह ( 1667 – 1685 ई . ) 

1667 ई . में जाटों ने , जो कि आ मथुरा , ग्वालियर के आसपास क्षेत्रों में रहते थे , गोकूल के नेतृत्व में विद्रोह क्योंकि ये मुगल गवर्नर अब्दुल नवी की नीतियों से असंतुष्ट थे । इस विद्रोह को दबा दिया गया । आगे 1685 ई . में राजाराम के नेतृत्व में पुनः जाट विद्रोह हुआ । इस बार विद्रोहियों ने सिकंदरा स्थित अकबर के मकबरे को खोद दिया तथा उसे | लूट लिया । आगे चूरामण ने जाटों को सैनिक शक्ति के रूप में तब्दील कर दिया । इस परंपरा को बदन सिंह ने आगे बढ़ाया ।

3 . सतनामी विद्रोह ( 1662 ) 

यह विद्रोह मुख्यत : एक सतनामी अनुयायी तथा मुगल सैनिक के झगड़े से प्रारंभ हुआ । सतनामी एक धार्मिक पंथ था जो कि नारनौल तथा मेवात के आसपास केन्द्रीय था । इस पंथ की स्थापना का श्रेय जगजीवन दास को दिया जाता है । सतनामी पंथ के अनुयायी मूलत : निचली जाति के लोग होते थे तथा कृषि व्यवसाय से जुड़े हुए थे । इस विद्रोह को रदनरज खाँ | के अधीन सेना ने दबा दिया ।

4 . बुंदेला विद्रोह

बुंदेला राजपूतों में वीर सिंह बुंदेला को शासन काल में सम्मान प्राप्त था । शाहजहां के काल में उसके । उपेक्षा की भावना से त्रस्त होकर जुझार सिंह के नेतृत्व में विद्रोह कर दबा दिया गया । औरंगजेब के काल में इसी विद्रोह को आगे बढ़ाते हुए छत्र विद्रोह कर दिया तथा पूर्वी मालवा में स्वतंत्र राज्य की स्थापना कर ली ।

5 . राजपूतों का विद्रोह

राजपूत विद्रोह की शुरूआत 1678 ई . में के शासक जसवंत सिंह की जमरूद में मृत्यु से प्रारंभ हुई । वस्तुत : औरंगजे जसवंत सिंह के वैध उत्तराधिकारी अजित सिंह के बदले इन्द्र सिंह को सत्ता में का बलपूर्वक प्रयास किया । क्षुब्ध होकर राजपूतों ने दुर्गादास राठौर के नेतृत्व में विद्रोह कर दिया । आगे इस विद्रोह को औरंगजेब के पुत्र अकबर द्वितीय का भी सहयोग मिला । हलांकि औरंगजेब को अजमेर के पास बंदी बनाने का अभियान विफल रहा , परंतु राजपूतों के सहयोग से अकबर द्वितीय पहले मराठा क्षेत्र तथा पुनः 1683 ई . में फारस भागने में कामयाब रहा ।

6 . सिक्ख

औरंगजेब ने सिक्खों के प्रति भी संकीर्ण धार्मिक दृष्टिकोण अपनाया । सिक्खों के नौवें गुरु तेगबहादुर को 1695 ई . में उसके द्वारा प्रस्तुत मुसलमान बनने के प्रस्ताव को ठुकराए जाने के कारण बहुत यातनाएं देकर मार डाला गया । दसवें गुरु गोविन्द सिंह ने धर्म की रक्षा हेतु ‘ खालसा ‘ का संगठन सैनिक संस्था के आधार पर किया । कहा जाता है कि जब औरंगजेब की मृत्यु निकट थी , उसने सद्व्यवहार का आश्वासन देकर गुरु गोबिन्द सिंह को बुलाया । गुरु अभी मार्ग में ही थे कि 1707 ई . में औरंगजेब की मृत्यु हो गई । 1708 ई . में गुरु गोबिन्द सिंह की एक अफगान ने छुरा मारकर हत्या कर दी । इनके उत्तराधिकारी बन्दाबहादुर ने मुगलों के विरुद्ध संघर्ष जारी रखा।

2. औरंजेब की दक्षिण नीति

1. बीजापुर 

बीजापुर के शासक आदिलशाह ने 1657 ई . की संधि का पालन नहीं किया था । अत : उसे दंडित करने हेतु जयपुर के राजा जयसिंह को 1665 में दक्षिण में नियुक्त किया गया । उसने शिवाजी के साथ परंदर की साँध भी संपन्न का , कन अतिम रूप से बीजापुर को साम्राज्य में शामिल करने में असफल रहा ।  दिसंबर 1672 ई . तक आदिलशाह की मत्य हो चकी थी ।

तत्पश्चात् गुटबदा लाभ उठाकर मुगल सुवेदार बहादर खाँ ने 1676 का असफल अभियान ” के आभयान के बाद 1685 में शाहजादा आजम ने बीजापुर 1679 ई . के दिलेर खाँ के अभियान के बाद 1685 में । पर आक्रमण किया , जिसका नेतृत्व कालांतर में आ 1076 का असफल अभियान किया । रिंगजेब ने संभाला । 22 सितंबर , 7 दिया गया । इस प्रकार बीजापुर पर मुगलों 1686 को बीजापुर के शासक सिकदर आदिलशाह ने आत्मसमर्पण कर दि उसे दौलताबाद के किले में कैद कर दिया गया । इस प्रकार बीजा का अधिकार हो गया ।

महत्त्वपूर्ण तथ्य

  1. अकबर ने तीसरे सिक्ख गुरु अमरदास से भेंट की तथा उसकी पुत्री के नाम कई गांव प्रदान किए ।
  2. 1577 ई . में अकबर ने सिक्ख गुरु रामदास को 500 बीघा जमीन प्रदान की ।
  3. कालांतर में यहीं अमृतसर नगर बसा तथा स्वर्ण मंदिर का निर्माण हुआ ।
  4. फतेहपुर सीकरी का खाका बहाउद्दीन ने तैयार किया था ।
  5. अकबर के दरबार में तीन बार जेसुइट मिशन आया , जिसमें पहली बार 1580 | ई . में ( फतेहपुर सीकरी ) आए मिशन का नेतृत्व एक्वाबोवा ने किया था ।
  6. सलीम ने मानबाई को ‘ शाहे बेगम ‘ का पद प्रदान किया था । बाद में सलीम की आदतों से ( अधिक शराब पीने के कारण ) परेशान होकर शाहे बेगम ( मानबाई ) ने आत्महत्या कर ली ।
  7. उसकी 12 घोषणाओं को ‘ आइने – ए – जहांगीरी ‘ कहा जाता है ।
  8. इन घोषणाओं में एक ऐम्मा ( भूमि का प्रमाणीकरण ) था जो ‘ वाक्याते जहागीरी ‘ में प्रार्थना एवं प्रशंसा के लिए दी गई भूमि के रूप में वर्णित है ।
  9. जहांगीर ने अनेक अभियानों के बाद अंतत : 1617 ई . में खुर्रम को अहमदनगर अभियान पर भेजा तथा खुद माण्डू पहुंच गया ।
  10. बीजापुर के शासक की मध्यस्थता के कारण संधि हो गयी ।
  11. इस संधि के फलस्वरूप जहांगीर ने खुर्रम को ‘ शाहजहां ‘ तथा बीजापुर के शासक को ‘ फर्जद ‘ ( पुत्र ) की उपाधि दी ।
  12. जहांगीर ने श्रीकांत नामक एक हिन्दू को हिन्दुओं का जज नियुक्त किया ।
  13. जहांगीर ने सूरदास को प्रश्रय दिया था तथा उसी के संरक्षण में ‘ सूरसागर ‘ की रचना हुई ।

2. गोलकुण्डा

गोलकुण्डा पर भी यही इल्जाम लगाया गया कि इसने 1656 ई . की संधि का उल्लंघन किया है । इस वक्त शासन की बागडोर अबुल हसन के हाथों में थी , लेकिन वास्तविक शासक ‘ मदना ‘ एवं ‘ अकना ‘ नामक ब्राह्मण थे । 1685 में मुअज्जम ने मुगलों की ओर से अबुल हसन से संधि की , लेकिन पुनः संधि की अवहेलना होने पर स्वयं औरंगजेब ने 7 फरवरी , 1687 को युद्ध का | नेतृत्व किया और इसे अक्टूबर तक जीत लिया । अबुल हसन को 50 , 000 रु . को । वार्षिक पेंशन देकर ‘ दौलताबाद ‘ के किले में कैद कर दिया गया और इस प्रकार | गोलकुंडा मुगल साम्राज्य के अंतर्गत आ गया ।

3. औरंगजेब और मराठे

1663 ई . में शिवाजी के विरुद्ध मुगल सेनापति शाइस्ता खां असफल रहा । उसके बाद शाहजादा मुअज्जम और राजा जयसिंह को भेजा गया । जयसिंह ने 1665 ई . में शिवाजी को पुरंदर की संधि के लिए बाध्य कर दिया । 1666 ई . में शिवाजी को आगरा में मुगल दरबार में उपस्थित होना पड़ा । 1680 ई . में शिवाजी की मृत्यु के पश्चात् औरंगजेब ने सम्भा जी के विरुद्ध युद्ध किया व उसे पकड़ कर मार डाला

उसके पुत्र शाहू को कैद कर लिया गया जो 1708 ई . में मुक्त हुआ । 1689 ई . में सम्भा जी की हत्या के बाद राजाराम ने 1700 ई . तक मराठों का संघर्ष जारी रखा । उसके पश्चात् उसकी विधवा ताराबाई ने यह संघर्ष सफलतापूर्वक चलाया । आवश्यक प्रयत्न करने पर भी औरंगजेब मराठों के विरोध का दमन करने में असफल रहा ।

4. औरंगजेब और अंग्रेज

सर टॉमस रो के समय अंग्रेज व्यापारियों ने मुगल सम्राट के प्रति मित्रता की नीति अपनाई । 1616 ई . में अंग्रेजों को मछलीपट्टनम एक कारखाना स्थापित करने की अनुमति मिल गई । 1639 ई . में फ्रांसीसी डे चन्द्रगिरि के राजा से थोड़ी – सी भूमि पट्टे पर ले ली । शाहजहां ने 1650 – 1651 प्रजों को हुगली और कासिम बाजार में कारखाने बनाने की आज्ञा दे दी । 1685 ई . में शाइस्ता खां द्वारा अंग्रेजों के व्यापार पर स्थानीय रूप से टैक्स । जाने पर अंग्रेजों ने विरोध किया , किन्तु मुगल सेनाओं ने उन्हें पराजित किया ।

लगाये जाने पर अंग्रेजों ने विर । तथा 1688 ई . में अंग्रेज व्यापारियों को सूरत , मछलीपट्टनम और हगली छोट लिए बाध्य होना पड़ा । बंगाल के नए राज्यपाल ने हुगली के अंग्रेजी कारखाने के । उच्चाधिकारी चारनॉक को शाही फरमान द्वारा एक छोटी – सी बस्ती बसाने की आज दे दी । यह छोटी – सी बस्ती बाद में आधुनिक नगर कलकत्ता बन गई ।

5. औरंगजेब और उसके पुत्र

औरंगजेब ने कभी अपने पुत्रों पर विश्वास नहीं किया । शाहजादा अकबर को विद्रोह करके फारस भाग जाना पड़ा । सबसे बड़े शाहजादे सुलेमान को अपने चाचा शाहशुजा से सहानुभूति जताने व उसकी पुत्री से शादी करने के कारण 18 वर्ष कैद में रहना पड़ा । शाहजादा मुअज्जम को भी बीजापुर व गोलकुण्डा के शासकों से सहानुभूति जताने के कारण 1687 ई . से | 1695 ई . तक कैद में रखा गया ।

सबसे छोटे शाहजादे को भी कैद में रखा गया । औरंगजेब ने सदैव अपने पुत्रों को अपने से दूर रखा , क्योंकि वह उनकी गतिविधियों को शंका की दृष्टि से देखता था । जीवन के अंतिम समय पर उसने अपने पुत्रों को बहुत पश्चाताप भरे पत्र लिखे । इन पत्रों के विषय में स्मिथ का विचार है कि औरंगजेब का कठोर आलोचक | भी इस पश्चाताप के दु : ख की गहराई मानने से और मृत्यु – शय्या पर अकेले पड़े इस वृद्ध पुरुष के साथ सहानुभूति किए बिना नहीं रहेगा । मार्च , 1707 ई . में औरंगजेब की मृत्यु हो गई

महत्वपूर्ण तथ्य 

  • शाहजहाँ ने दारा को ‘ शाहबुलन्द इकबाल ‘ की उपाधि से विभूषित किया था ।
  • सम्राट बनने के बाद औरंगजेब ने राहदारी ( आंतरिक पारगमन शुल्क ) , पानदारी । ( व्यापारिक चुगियों ) तथा आबवाबों ( स्थानीय करों ) को समाप्त कर दिया ।
  • अपने शासन के 11वें वर्ष में झरोखा दर्शन तथा 12वें वर्ष में तुलादान प्रथा को समाप्त कर दिया । 2 जनता पवित्र कानून ( शरियत ) के अनुसार आचरण कर रही हैं या नहीं , इसकी |
  • देखभाल के लिए औरंगजेब ने महतसिब नामक अधिकारी की नियुक्ति की ।
  • 1 1688 ई . में राजाराम के भतीजे चूडामन ने मथुरा के निकट भरतपुर नामक एक नए स्वतंत्र राज्य की स्थापना की ।
  • मुगलों और बुंदेलों के बीच पहली बार संघर्ष ‘ मधकर शाह ‘ के समय शुरू हुआ । 1 1704 ई . में गुरु गोविंद सिंह ने ऑगजेब के पास एक पत्र लिखा था , जिसे जफरनामा कहा जाता हैं ।

शासक

वावर मुगलकालीन शासकों के मकबरे काबुल अकबर जहांगीर शाहजहा । सिकन्दरा ( आगरा ) शाहदरा ( लाहौर ) आगरा दौलताबाद या औरंगाबाद औरंगजेन

शासक मुगलकालीन शासकों के मकबरे
वावरकाबुल
हुमायूँदिल्ली
अकबरसिकन्दरा ( आगरा )
जहांगीरशाहदरा ( लाहौर )
शाहजहाआगरा
औरंगजेनदौलताबाद या औरंगाबाद

उम्मीद करता हूं आपको यह पोस्ट जरूर पसंद आई होगी। अगर आपको पोस्ट पसंद आई है तो अपने दोस्तों के साथ में सोशल मीडिया पर शेयर करें और हमें कमेंट में बताएं यह आपको कैसा लगा है। !

भारत के कुछ राजाओं का इतिहास नीचे पढ़े

Tags: Aurangzeb History, Aurangzeb History 2019, Aurangzeb History in Hindi, Aurangzeb History in English, Aurangzeb History jane hindi me, Aurangzeb History top, Aurangzeb History best in hindi, Aurangzeb History full hindi, Aurangzeb History hindi, Aurangzeb History hindi me pade, best Aurangzeb History, top Aurangzeb History hindi, Aurangzeb History old in hindi.

About the author

Nazir Husain

Hello friends My name is Nazir Husain and My blog is Online Hindi Points . I share my knowledge in Hindi on this blog . I live in India and I want to do some kind of help for the people of india. If you liked our website,Definitely share this blog with your friends .

Leave a Comment

%d bloggers like this: