Jahangir History in Hindi – जहांगीर का शुरू से लेकर अंत तक का पूरा इतिहास

Jahangir History in Hindi: जहाँगीर ( 1605 – 1627 ई . ) ‘ मोहम्मद सलीम ‘ का जन्म 30 अगस्त , 1569 ई . को फतेहपर सीकरी में ‘ शख सलीम चिश्ती ‘ की कुटिया में हुआ था । उसकी माता भारमल की पुत्री ‘ मरियम उज्जमानी ‘ थी । अकबर उसे ‘ शेखूबाबा ‘ कह कर पुकारता था । चार वर्ष की । अवस्था में सलीम की शिक्षा का अच्छा प्रबंध किया गया । उसके शिक्षकों में प्रमुख । अब्दुर्रहीम खानखाना था । 13 फरवरी , 1585 ई . में सलीम ( जहाँगीर ) का विवाह राजा भगवान दास की पुत्री मानबाई से हुआ । शाहजादा खुसरो मानबाई का ही पुत्र । था । उसने राजा उदयसिंह की पुत्री जोधाबाई से भी विवाह किया ।

Jahangir History

जहांगीर का पूरा इतिहास हिंदी में – Jahangir History in Hindi

1600 ई . में जब अकबर दक्षिण में असीरगढ़ के किले को जीतने में व्यस्त । था तो शाहजादा सलीम ने खुलेआम विद्रोह करके स्वयं को इलाहाबाद का सम्राट | घोषित कर दिया । 1602 ई . में सलीम ने वीर सिंह बुन्देला से अबुल फजल की हत्या करवा दी , किन्तु बाद में अकबर से उसने माफी मांग ली तथा उसे क्षमा कर दिया गया । 1604 ई . में शाहजादा दानियाल की मृत्यु हो गई , अत : सलीम अकबर का इकलौता जीवित पुत्र रह गया । 21 अक्टूबर , 1605 ई . को अकबर ने सलीम को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया । अकबर की मृत्यु के पश्चात् आठवें दिन 3 नवम्बर , 1605 ई . को आगरे के किले में सलीम का राज्याभिषेक सम्पन्न हुआ । उसने ‘ नूरुद्दीन मोहम्मद जहाँगीर बादशाह गाजी ‘ की उपाधि धारण की ।

सलीम ने जहाँगीर ‘ या ‘ विश्व विजयी ‘ की उपाधि धारण की । उसने अनेक बंदियों को मुक्त कर दिया तथा अपने नाम के सिक्के चलवाए । उसने अपनी नीति की घोषणा जहाँगीर ने आगरे के किले की शाह बुर्ज और यमुना के किनारे एक पत्थर के स्तम्भ के मध्य ‘ न्याय की जंजीर ‘ ( जो शुद्ध सोने की बनी थी तथा लगभग 30 गज लंबी थी ) जिसमें 60 घंटिया थीं , स्थापित करने की आज्ञा दी । ताकि दु : खी जनता अपनी शिकायतों को सम्राट् के सम्मुख रख सके ।

शाहजादा खुसरो का विद्रोह ( 1606 ई . )

जहांगीर के सम्राट् बनने के । पांच महीने पश्चात् ही उसके सबसे बड़े पुत्र खुसरो ने अपने मामा मानसिंह एवं । ससुर अजीज कोका की सलाह पर विद्रोह कर दिया । हुसैन बेग तथा लाहौर का । दीवान अब्दुल रहीम भी उसके साथ हो लिए । शाहजादा खुसरो ने तरनतारन में सिक्खों के पांचवें गुरु अर्जुन देव का आशीर्वाद लिया तथा सहायता भी प्राप्त की । जहांगीर की शाही सेनाओं ने जालन्धर के निकट भैरोवाल में विद्रोहियों को पराजित किया ।

खसरो पकड़ा गया । उसे बंदी बना लिया गया । सिक्खों के गुरु अर्जनदेव को भी तलवार से मौत के घाट उतार दिया गया । 1607 ई . में जहांगीर को खसरो की ये गक घटयंत्र की भनक पड गई और उसने शाहजादा खुसरो को अंधा करवा दिया । 1620 ई . में उसे शाहजादा खुरम ( शाहजहा ) को सौप दिया गया । शाहजादा खम ने अपने दक्षिण अभियान के समय 1621 ई . में खुसरो की हत्या करता है ।

नूरजहां

जहांगीर के इतिहास में नूरजहां की कथा को एक प्रमुख स्थान प्राप्त है । वह तेहरान के निवासी मिर्जा ग्यासबेग की पुत्री थी । ग्यासबेग एक धनी व्यापारी “ मलिक मसूद ” के संरक्षण में भारत आया । कन्धार में उसकी एक पुत्री उत्पन्न हुई । मलिक मसूद ने ग्यासबेग का परिचय अकबर से करवाया तथा वह कालान्तर में काबुल के दीवान के पद पर आसीन हुआ । उसकी पुत्री ‘ मेहरुन्निसा ‘ का विवाह 17 वर्ष की आयु में फारस के | एक साहसी युवक अली कुलीबेग से हुआ ।

इसी तरह अगले पढ़े

उसे बंगाल की जागीर तथा ‘ शेर अफगान की उपाधि दी गई । जहांगीर को पता लगा कि शेर अफगान शाही आदेशों का उल्लंघन करता है तथा विद्रोही होता जा रहा है । अतः उसने बंगाल के नए राज्यपाल कुतुबुद्दीन को शेर अफगान के विरुद्ध भेजा , किन्तु वह मारा गया । शेर अफगान भी कुतुबुद्दीन के अंगरक्षकों के हाथों मारा गया । 1607 ई . में शेर अफगान की विधवा मेहरुन्निसा को आगरा लाकर सुल्ताना सलीमा बेगम के संरक्षण में रखा गया । 1611 ई . में जहांगीर ने उससे विवाह कर लिया तथा उसे ‘ नूरमहल ‘ की उपाधि दी । बाद में यह उपाधि | नुरजहां ‘ अर्थात ‘ संसार का प्रकाश ‘ कर दी गई ।

मेवाड़ का युद्ध

1597 ई . में राणा प्रताप की मृत्यु के पश्चात । उसका उत्तराधिकारी बना । जहांगीर ने अपने शासन काल में 1605 ई = या की मत्यु के पश्चात् अमर सिंह शासन काल में 1605 ई . में शाहजादा । राज के अधीन मेवाड़ के विरुद्ध संना भेजी । आसिफ खां तथा जफर बेग । जादे के साथ थे । वेवार के दरे ‘ में राणा अमर सिंह तथा मुगल सेना के ध्य संघर्ष हुआ , किन्तु इसका कोई परिणाम नहीं निकला । 1698 ई . में महावत । बां तथा 1609 ई . में अब्दुल्ला खां को अमरसिंह के विरुद्ध ‘ भेजा गया , किन्न । उसने भी कोई महत्त्वपूर्ण कार्य नहीं किया । 14 ई . में शाहजादा खुर्रम को अमरसिंह के विरुद्ध भेजा गया ।

घोर युद्ध चात राजपूतों को संधि करनी पड़ी । अमरसिंह के साथ कपापर्ण व्यवहार | ा गया । अकबर के समय से जीता हुआ सारा प्रदेश उसे लौटा दिया गया । | नौड़ का किला इस शर्त पर वापस दिया गया कि उसकी मरम्मत नहीं कराई । जाएगी । उसे यह भी आश्वासन दिया गया कि उसे स्वयं दरबार में नहीं जाना | पडेगा । अमरसिंह के पुत्र कर्णसिंह को पांच हजारी मनसबदार बना दिया गया । कहा जाता है कि जहांगीर ने अजमेर के मूर्तिकारों द्वारा बनाई गई अमरसिंह और कर्णसिंह की आदम – कद मूर्तियों को आगरा के शाही बाग में ठीक ‘ झरोखे ‘ के नीचे स्थापित करवाया ।

किश्तवार की विजय ( 1622 ई . )

अकबर के समय किश्तवार पर । अधिकार करने का प्रयत्न किया गया था , किन्तु वह असफल रहा । कश्मीर के राज्यपाल दिलावर खां ने 1620 ई . में किश्तवार के राजा को जहांगीर के सामने पेश किया । राज्यपाल के अत्याचारों से तंग आकर जनता ने विद्रोह कर दिया । विद्रोह का दमन करने के लिए एक बड़ी सेना भेजी गई और 1622 ई . में यहां शांति स्थापित हो गई ।

अहमदनगर से युद्ध ( 1610 – 1620 ई . ) 

अकबर ने अहमदनगर से निजामशाही वंश का अंत कर दिया था । जहांगीर के समय मलिक अम्बर नामक अबीसीनियायी निवासी ने इस वंश की पुन : स्थापना की । उसे उस युग के सर्वश्रेष्ठ सेनानायकों और शासकों में से एक माना जाता है । उसने मराठों को छापामार युद्ध का प्रशिक्षण दिया । मलिक अम्बर ने शाहजादा खुसरो के विद्रोह का लाभ उठाकर अब्दुर्रहीम खानखाना की सेना पर आक्रमण करके 1610 ई . में अहमदनगर पुनः प्राप्त कर लिया । खानखाना को वापस बुलाकर खानेजहां को मलिक अम्बर के विरुद्ध भेजा गया , किन्तु वह भी असफल रहा ।

1616 ई . में गुजरात से शाही सेना खानेजहां के सहयोग हेतु भेजी गयी , किन्तु फिर भी कोई परिणाम नहीं निकला । 1616 ई . में शाहजादा खुर्रम को मलिक के साथ संधि करनी पड़ी । खुर्रम को सम्राट् । ने ‘ शाहजहां ‘ की उपाधि दी तथा 30 , 000 जात और 20 , 000 सवारों का मनसब दिया । बहुत खुशियां मनाई गई , किन्तु वास्तव में न तो अहमदनगर को जीता गया और न मलिक अम्बर की शक्ति का दमन हुआ । 1629 ई . तक , जब तक मलिक अम्बर जीवित रहा , यही परिस्थिति बनी रही ।

कन्धार का मामला

कन्धार को अकबर ने मुगल साम्राज्य का अंग बनाया । था । 1605 ई . में शाहजादा खुसरो के विद्रोह के समय फारस के शासक शाह अब्बास ने खुरासान के सरदार को कन्धार पर आक्रमण हेतु उकसाया , किन्तु उसका आक्रमण असफल रहा । शाह अब्बास से जहांगीर ने इस विषय में पूर्ण अनभिज्ञता प्रकट की । कालान्तर में शाह अब्बास ने जहांगीर का ध्यान केन्धार की ओर से हटाने के लिए 1611 ई . 1615 ई . , 1616 ई . तथा 1620 ई . में बहुत – सी मेंट वे खुशामदी पत्र आगरा मुगल दरबार में भी न दरबार में भेजे । 1621 ई . में शाह अब्बास ने बड़ी सेना के साथ कन्धार पर चढ़ाई कर पर चढ़ाई कर दी ।

जहांगीर ने शाहजहां ( खुर्रम ) को पेना । का नेतत्व करने हेतु कहा , किन्तु उसने संभवत : शासन में नूरजहां के प्रधान कारण सना का नेतृत्व करने से इंकार । से इंकार कर दिया और विद्रोह कर दिया । अत . शाट अब्बास ने आसानी से 45 दिन के घर के बाद चार जीत लिया । जहांगीर ३ कम करने की आज्ञा दी , किन्तु आसफ खां शाहजादा परवेज को कन्धार पर आक्रमण करने की आज्ञा दी , कि । के कहने पर आजाद कर दी गई । फलतः 1622 ई . में कधार के हाथों से निकल गया ।

शाहजहां का विद्रोह ( 1623 – 25 ई . )

शाहजहां ने शाह अब्बास के विरुद्ध कन्धार जाने की अपेक्षा विद्रोह कर दिया । जहांगीर तथा शाहजादा खुर्रम ( शाहजहा ) । के मध्य ‘ बलोचपुर ‘ के स्थान पर युद्ध हुआ । शाहजहां पराजित होकर दक्षिण की ओर भागा । बुरहानपुर होता हुआ वह 1624 ई . में बंगाल पहुंचा । उसने मुगल अधिकारियों के सहानुभूतिपूर्ण व्यवहार के कारण बंगाल और बिहार पर अधिकार कर लिया । शाहजादा परवेज तथा महावत खां ने शाहजहां को पराजित किया तथा शाहजहां फिर दक्षिण की ओर भाग गया । 1625 ई . में शाहजहां व जहांगीर में समझौता हो गया । शाहजहां ने रोहतास और असीरगढ़ का समर्पण करना स्वीकार कर लिया तथा औरंगजेब और दाराशिकोह को जमानत के रूप में शाही दरबार में भेजा ।

जहांगीर की मृत्यु ( 1627 ई . ) 

अत्यधिक शराब पीने से जहांगीर अस्वस्थ हो गया था । वह स्वास्थ्य को कश्मीर और काबुल में रहकर सुधारने के प्रयत्न में था । जब वह कश्मीर से काबुल जा रहा था तो अत्यधिक सर्दी के कारण लाहौर की ओर लौट गया , किन्तु मार्ग में ही 7 नवम्बर , 1627 ई . को भीमवार नामक स्थान पर उसकी मृत्यु हो गई । उसके शव को शाहदरा ( लाहौर ) में दफनाया गया । जहांगीर के दरबार में विलियम हॉकिन्स ( 1608 ई . ) , विलियम फिंच , सर थॉमस रो ( 1615 ई . ) एवं एडवर्ड टैरी जैसे यूरोपीय यात्री आये थे । जहांगीर के पांच पुत्र थे — ( 1 ) खुसरो , ( 2 ) परवेज , ( 3 ) खुर्रम , ( 4 ) शहरयार तथा ( 5 ) जहांदार ।

उम्मीद करता हूं आपको यह पोस्ट जरूर पसंद आई होगी। अगर आपको पसंद आई है तो अपने दोस्तों के साथ में इस पोस्ट को जरुर शेयर करें। और ऐसे ही पोस्ट को पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब करे।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *