All Post All Story Love Points

True Love Story in Hindi | अंधा प्रेम – एक सच्ची प्रेम कहानी 2018

अंधा प्रेम – एक सच्ची प्रेम कहानी

आज हम आपके लिए बहुत ही मजेदार एक सच्ची प्रेम कहानी लेकर आए हैं। आप चाहें तो इन्हें अपने दोस्त या रिश्तेदार भाई भतीजे किसी के साथ भी Share कर सकते हैं जो कहानी आपको पसंद आ रही है उसका Link के इंडस Copy करके आप किसी भी Social Media Networking पर इन्हें Past कर सकते हैं। मैं आशा करता हूं कि ये अंधा प्रेम – एक सच्ची प्रेम कहानिया आपका दिल छू जायगी। यदि आप इन्हें पढ़ने पश्चात हमें कोई सुझाव देना चाहते हो तो हम आपके विचारों स्वागत करते हैं ।कृपया कृपया अपनी इच्छा अनुसार कहानियां चुनकर पढ़े।

एक सच्ची प्रेम कहानी

एक बहुत गरीब लड़की थी। इसके पिता किसी दुकान पर मजदूरी करते थे। और माँ घरों में चौका-बर्तन करती थी। ये अपने मां बाप की इकलौती लड़की थी, इसलिए इस लड़की के माँ-बाप ने बड़े लाड़-प्यार से पाला था। वे चाहते थे कि पढ़ लिख कर बड़े आदमी बने, जिस कारण उसे गरीबों में दिन गुजारने ना पड़े।

जब उसने गांव के स्कूल से दसवीं का एग्जाम पास किया, तो बहुत खुशी हुई। और मां-बाप ने किसी तरह पैसों का जुगाड़ करके गांव से 10 किलोमीटर दूर के कस्बे में उसका इंटर कॉलेज में दाखिला करवा दिया। और वह साइकिल से स्कूल जाने लगी इसी तरह से उसकी जिंदगी आगे बढ़ने लगी।

लेकिन एक दिन उसकी जिंदगी में एक नया मोड़ आया और स्कूल से निकलते वक्त एक लड़का बाइक से उसके पास आया और धीरे से बोला अगर आप बुरा ना मानो तो मैं आपसे कुछ कहना चाहता हूँ।

लड़की उस लड़के को अक्सर रास्ते में ही देखा करती थी। जब भी वह स्कूल आती आती थी और स्कूल से जाती थी वह लड़का सड़क के किनारे खड़ा होकर उसे निहारा करता रहता था। लड़की को पहले शुरू में तो उसे यह सब अच्छा नहीं लगा लेकिन धीरे-धीरे कहीं भी उसे अच्छा लगने लगा था। इसलिए जब उस लड़के ने कहने की अनुमति मांगी तो उसने धीरे से अनुमति दे दी।

और लड़के ने कहा जरा रुको तो। लड़की ने जवाब दिया की रास्ता चल रहा है कोई देख लेगा मैं नहीं रुकूँगी तो लड़का बोला Please रुको तो लड़की मान गई और रुक गई तो लड़की ने कहा बोलो किया कहना है। लड़के ने अपनी शर्ट की जेब से एक गुलाब की कली निकालकर उसके हाथ में रख दी और उसकी मुट्ठी बंद करते हुए बोला मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ।

उठते-बैठते सोते-जागते हर समय बस तुम्हारे बारे में सोचता हूँ और तुम मेरे सपनों में आती हो और मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लगता है तुम्हारी याद में और बोला तुम मुझे सड़क पर चलते दिखती हो तो मुझे बहुत सुकून मिलता है।

लड़का और भी कुछ कहना चाहता था , पर लड़की ने धीरे से उसके होटो पर अपना हाथ रख कर उसके प्यार का इकरार कर लिया। इस तरह आप उन दोनों में बातचीत की शुरुआत हो गई लड़का रोज उसके लिए कोई न कोई गिफ्ट लाता था। और उसके लिए जीने मरने की कसमें खाता था। उसकी बातें सुनकर लड़की दीवानी हो जाती और ख्वाबों की दुनिया में खो जाती है।

अब दिल छू जाएगा पढ़ते हुए

एक दिन वो लड़का उस लड़की को अपनी बाइक पर घुमाने ले गया। और दोनों लोग नदी के किनारे पहुंचे और घास पर बैठकर बातें करने लगे। लेकिन लड़के की मांशे तो कुछ और थी लेकिन यह लड़की प्यार में अंधी हो चुकी थी। वह लड़की उसकी मंशा समझ नहीं पाई और उसने अपने आप को लड़के के हवाले कर दिया। दोनों लोग एक दूसरे के प्यार में ऐसे खोए की दो जिस्म एक जान हो गये।

लेकिन ना जाने कहां से वहां पर तीन लड़के आ गए उन्हे देखकर लड़की हक्का-बक्का रह गई और अपने कपड़े सही करने लगी। यह देख कर एक लड़का उसका हाथ पकड़ता हुआ बोला, इतनी भी क्या जल्दी है मेरी रानी, हम भी तो तुम्हारे दीवाने हैं थोड़ा हमारा भी तो मनोरंजन करवा दो।

लड़की ने अपने प्रेमी से मदद मांगी। मगर वह यह सब देख कर हंसता रहा यह देख कर लड़की का हृदय धक से रह गया यानी कि यह सब इसकी चाल थी?

आगे लड़की कुछ सोच ही नहीं पाई क्योंकि वे तीनों लड़के उसके शरीर पर भूखे भेड़िए की तरह टूट पड़े और अपनी हवस की आग बुझाते रहे वह लड़की मदद के लिए चिल्लाती रही और वे उस से नोचते घसीटते रहे।

लगभग 1 घंटे के बाद लड़की को होश आया, तो उसने अपने आप को देखा तो फिर से बेहोश होने लगी देखकर अपना जिस्म और अपना काबू संभालते हुए अपने कपड़े ढूढने लगी। बे तीनों लड़के और उसके प्रेमी वहां से जा चुका था। लड़की ने कपड़े पहनने के बाद उसकी आंखों के आगे अंधेरा छा रहा था। उसकी दुनिया अंधेरे से भर चुकी थी। उसे अपना जीवन समाप्त होता हुआ लग रहा था।

वह सोचती रही कि क्यों अपनी उस बेवफा लड़के की बातों पर एतबार किया क्यों मैं उसके साथ यहां पर आई अब मैं क्या मुंह लेकर अपने घर जाऊंगी अपने मां-बाप को क्या बताऊंगी। मेरा यह हाल देख कर बे तो जीते जी मर जाएंगे।

लड़की का गला बुरी तरह से सूख रहा था। वह किस तरह से वो घसीटते हुए नदी के किनारे पहुंची। नदी का पानी ढल ढल करता हुआ तेजी से बह रहा था। लड़की ने एक बार फिर अपने मजबूर मां बाप, अपने Bewafa प्रेमी के बारे में एक बार फिर से सोचा और फिर नदी में उसने छलांग लगाई ही दी।

अगले ही पल वह नदी में डूबने उतरने लगी। लेकिन अब ना तो वह किसी को अपनी जान बचाने के लिए पुकार रही थी। और ना ही बचने के लिए संघर्ष कर रही थी। उसका मन ठहरे हुए जल की शांत था। और बार-बार अपने बेवफा प्रेमी के बारे में सोच रही थी। कि क्यों उसने उसकी बातों पर किस तरह से एतबार कर लिया, क्यों मैंने उससे अंधा प्यार किया, क्यों मैंने उसके प्यार को जरूरत नहीं समझी? अगर मैं ऐसा कर पाती तो शायद बच पाती ???? और फिर वह नदी की गहराइयों में डूबती ही चली गयी।

दोस्तों किसी से प्यार करना, किसी पर ऐतबार करना बुरा नहीं है, लेकिन जज्बातों को पहचानने की क्षमता भी रखिए। किसी को तन-मन सपने से पहले उसके परिणाम के बारे में भी जरूर सोचिए नहीं तो आप भी धोखा खा सकते हैं। आप भी ठगे जा सकते हैं। इसलिए पहले उसका पूरा दिल की बात जान लीजिए और फिर उससे बात करें। अपने दिल की और उसकी दिल की बात पहले पूरी तरह से मिल जाए तब अगले कदम बढ़ाए।

I hope की आपको यह कहानी पसंद आई होगी। अगर आपको पसंद आए हैं तो Comment करके जरूर बताएं। और इस कहानी को अपने दोस्तों को Share करें ताकि उनको भी मालूम पड़ जाए कि दुनिया में किस तरह के लोग हैं। और देर ना करते हुए इसे जल्दी से Share कर दे हो सकता है कि आपके इस प्रयास से किसी का जीवन संवर जाए। और हमारी इस वेबसाइट पर notification allow जरूर करें ताकि आपको नए ऐसे ही अच्छी कहानी मिलती रहे ।

Also read:-

अधिक जानकारी के लिए यहां Click करें

About the author

Nazir Husain

Nazir Husain

Hello friends My name is Nazir Hussain and My blog is online Hindi points. I share my knowledge in Hindi on this blog . I live in India and I want to do some kind of help for the people of india. If you liked our website,Definitely share this blog with your friends .

Leave a Comment

2 Comments

  • I’ve been surfing online more than 3 hours today, yet I never
    found any interesting article like yours. It is pretty worth enough for me.
    In my opinion, if all site owners and bloggers
    made good content as you did, the web will be much more useful than ever
    before.

%d bloggers like this: